About Us

 

भारत के आजादी के पूर्व राष्ट्र के नवनिर्माण का जो स्पप्न देखा गया था जिसे महान विकसित और समृद्धशाली बनाने का जो चित्र हमारे पूर्वजों की आंखों में था उसी राष्ट्र निर्माण के नवगीत को विकास के संकल्पना का मूर्तिमान करने का एक अकिंचन प्रयास मेरे द्वारा किया जा रहा है जिसे इस मोबाइल पोर्टल के माध्यम से आप लोगों से साझा करना चाहता हूं। आपके बहुमूल्य सुझावों विचारों से लाभान्वित भी होना चाहता हूं ताकि जिस भय मुक्त विचारयुक्त भारत की संकल्पना कविवर रवीन्द्रनाथ टैगोर ने गीतांजली में की थी हम उसे साकार कर सकें.
 

जहां चित्त भय से शून्य हो
जहां हम गर्व से माथा ऊंचा करके चल सकें
जहां ज्ञान मुक्त हो
जहां दिन रात विशाल वसुधा को खंडों में विभाजित कर
छोटे और छोटे आंगन न बनाए जाते हों
जहां हर वाक्य ह़दय की गहराई से निकलता हो
जहां हर दिशा में कर्म के अजस्तर नदी के स्रोत फूटते हों
और निरंतर अबाधित बहते हों
जहां विचारों की सरिता
तुच्छ आचारों की मरू भूमि में न खोती हो
जहां पुरूषार्थ सौ सौ टुकड़ों में बंटा हुआ न हो
जहां पर सभी कर्म भावनाएं आनंदानुभुतियाँ तुम्हारे अनुगत हों
हे पिता अपने हाथों से निर्दयतापूर्ण प्रहार से
उसी स्वतंत्रता स्वर्ग में इस सोते हुए भारत को जगाओ
 

Facebook Post

Tweets

Contact Us

Shankar Nagar Road,
Raipur (C.G.)
0771-2331020, 0771-2331021