Email: amaragrawalofficial@gmail.com  Address: Shankar Nagar Road, Raipur

लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण

108 संजीवनी एक्सप्रेस : छत्तीसगढ की जीवन रेखा


छत्तीसगढ की जीवन रेखा

छत्तीसगढ़, राज्य निर्माण के पूर्व से ही कतिपय भौगोलिक व राजनैतिक कारणों से, सदैव ही स्वास्थ्य सेवाओं में अत्यंत पिछड़ा क्षेत्र रहा है। 1 नंवबर 2000 को राज्य निर्माण के पश्चात राज्य में स्वास्थ्य सेंवाओं के बेहतरी के लिए अनेकानेक प्रयास किए गए। श्री अमर अग्रवाल जी द्वारा 2008 में स्वास्थ्य मंत्री का पदभार ग्रहण करते ही राज्य के सुदूर अंचलों तक बेहतर स्वास्थ्य सुविधा एवं आपातकालीन चिकित्सा सेवाओं के विस्तार तथा क्रियान्वयन पर सर्वप्रथम ध्यान केन्द्रित किया गया। इसी कड़ी में इमरजेंसी मैनेजमेंट एंड रिसर्च संस्थान के सहयोग से 22 सितंबर 2011 को 108 संजीवनी एक्सप्रेस निःशुल्क अभिनव एम्बुलेंस सेवा का शुभारंभ किया गया है।

संपूर्ण राज्य में किसी भी आपात स्थिति में सड़क दुर्घटना, प्रसव संबंधी परेशानी, हार्ट अटैक, जानवरों के काटने, सर्पदंश, आत्महत्या के प्रयास, मलेरिया, मधुमेह से संबंधित गंभीर स्थिति में एम्बुलेंस बुलाने के लिए 108 डायल किया जा सकता है। यही नहीं किसी भी प्रकार की हिंसा, चोरी, डकैती, हत्या, रैगिंग, घरेलू हिंसा तथा अग्नि दुर्घटनाओं के लिए भी इसी नम्बर पर कॉल कर सहायता प्राप्त की जा सकती है। घायलों और गंभीर मरीजों को कम से कम समय में अस्पताल पहुंचाने के लिए एम्बुलेंस की तैनाती इस प्रकार की जाती है कि शहरी क्षेत्रों में 15 मिनिट और ग्रामीण क्षेत्रों में अधिकतम आधे घंटे के भीतर एम्बुलेंस पहुंच जाए। यह पूर्णतः वातानुकूलित और अत्याधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित एम्बुलेंस है। जन सामान्य मोबाईल अथवा किसी भी लैंडलाईन से बिना एसटीडी कोड के टोल फ्री नंबर 108 डायल कर पूर्णतः निःशुल्क एंबुलेंस सेवा का लाभ ले सकते है। यह सेवा साल के 365 दिन चैबीसों घण्टे उपलब्ध हैं। इसमें अत्याधुनिक चिकित्सा उपकरण, ऑक्सीजन, ब्लडबैंक, सामान्य प्रसव सुविधा, आवश्यक जीवन रक्षक दवाईयों के साथ डॉक्टर व मेडिकल ट्रिटमेंट स्टाफ मौजूद रहता है, जो मौके पर पहुंचते ही पीडि़त व्यक्ति का प्राथमिक उपचार आरंभ कर तत्काल अस्पताल पहुंचाते हैं। मरीज को इच्छानुसार निकटतम शासकीय अथवा निजी अस्पताल मे भर्ती सुविधा उपलब्ध कराई जाती है। अस्पताल में मरीज के पहुंचने के प्रथम 48 घण्टे तक अथवा मरीज के स्वास्थ्य स्थिर होने तक किसी भी तरह का कोई शुल्क नहीं लिया जाता।

सड़क हादसों में गंभीर रूप से घायलों की मौत केवल इसलिए हो जाती है, क्योंकि उन्हें समय पर अस्पताल नहीं पहुंचाया जा सका। इसे मानवीय संवेदना की कमी कहें या पुलिस की पूछताछ की औपचारिकताओं से बचने जुगत, व्यक्ति सड़क दुर्घटनाओं सहित विभिन्न प्रकार की आपात परिस्थितियों में घायल की मदद करने के बजाय अपनी राह चल देना ज्यादा पसंद करता है। इन सब परिस्थितियों से निजात दिलाने के लिए स्वास्थ्य मंत्री अमर अग्रवाल जी द्वारा 108 संजीवनी एक्सप्रेस की शुरूआत की गई है।

उपलब्धि

छत्तीसगढ़ में स्वास्थ्य के क्षेत्र में लागू विभिन्न योजनाओं में से संजीवनी एक्सप्रेस योजना अब तक की सबसे कामयाब और कारगर योजनाओं में से एक है। पूरे प्रदेश में योजना लागू हो जाने के बाद चिकित्सा के अभाव में प्रसव पीड़ा से कराहते किसी मां को अथवा सड़क दुर्घटना में किसी घायल को तड़पते हुए दम नहीं तोड़ना पड़ेगा। लेकिन इस पूरी योजना के क्रियान्वयन में प्रदेश के जागरूक नागरिकों को यह ध्यान रखना बेहद जरूरी है, कि यह सेवा केवल आपात परिस्थितियों के लिए है। छत्तीसगढ़ में स्वास्थ्य के क्षेत्र में लागू विभिन्न योजनाओं में से संजीवनी एक्सप्रेस योजना अब तक की सबसे कामयाब और कारगर योजनाओं में से एक है। पूरे प्रदेश में योजना लागू हो जाने के बाद चिकित्सा के अभाव में प्रसव पीड़ा से कराहते किसी मां को अथवा सड़क दुर्घटना में किसी घायल को तड़पते हुए दम नहीं तोड़ना पड़ेगा। लेकिन इस पूरी योजना के क्रियान्वयन में प्रदेश के जागरूक नागरिकों को यह ध्यान रखना बेहद जरूरी है, कि यह सेवा केवल आपात परिस्थितियों के लिए है।

इसे भी पढ़ें।


स्मार्ट कार्ड

छत्तीसगढ़ में गरीबी रेखा श्रेणी के लाखों परिवारों के लिए राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना प्रारंभ की गई है।


जननी सुरक्षा योजना

वर्ष 2011-12 में 3.37 लाख से अधिक महिलाओं ने अस्पतालों में कराया सुरक्षित प्रसव


108जीवनी एक्सप्रेस

छत्तीसगढ़ में गरीबी रेखा श्रेणी के लाखों परिवारों के लिए राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना प्रारंभ की गई है।


मुख्यमंत्री शहरी स्वास्थ्य कार्यक्रम

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की घोषणा के अनुरूप छत्तीसगढ़ के ग्यारह शहरों में 'मुख्यमंत्री शहरी स्वास्थ्य कार्यक्रम' लागू करने के लिए तैयारी की जा रही है।

From the Blog

‘स्वच्छता सर्वेक्षण 2018’ पर एक दिवसीय कार्यशाला सम्पन्न : शहरों से निकलने वाले कचरों का उचित प्रबंधन जरूरी
19 September 2017
स्वच्छ भारत मिशन (शहरी) के तहत छत्तीसगढ़ के सभी 168 नगरीय निकायों को स्वच्छता की

राज्य के तालाबों के संरक्षण हेतु तकनीकी विशेषज्ञों की रिपोर्ट पर बनेगी कार्ययोजना
31 August 2017
राज्य शासन द्वारा सरोवर धरोहर योजना के अंतर्गत राज्य के तालाबों के संरक्षण एवं सुदृढ़ीकरण के

श्री अमर अग्रवाल ने की विभागीय कार्यों की समीक्षा
19 September 2017
नगरीय प्रशासन मंत्री श्री अमर अग्रवाल ने आज यहां मंत्रालय(महानदी भवन) में विभागीय कामकाज की समीक्षा की। इस दौरान विभाग विशेष सचिव डॉ रोहित यादव