Email: amaragrawalofficial@gmail.com  Address: Shankar Nagar Road, Raipur  +91 98931 40203

बैर कराती मधुशाला

ग्रामीण इलाकों में लगभग 270 शराब की दुकानों को बंद करने के बाद छत्तीसगढ़ की सरकार ने अब राज्य में शराब मुक्ति के लिए एक नया अभियान शुरू किया है.

इस अभियान में मुख्य रूप से महिलाओं को शामिल किया गया है, जो लोगों पर शराब छोड़ने के लिए दबाव बनाने का काम कर रही हैं. भारत माता वाहिनी के नाम से गठित इस दल में शामिल महिलाएं शराबियों के घर के बाहर भजन गाकर उनपर सामाजिक दबाव डालने का काम कर रही हैं ताकि वे शराब से तौबा कर लें.

छत्तीसगढ़ की सरकार ने इस शराब व्यसन मुक्ति अभियान की शुरुआत स्वतंत्रता दिवस से की तो है, लेकिन इससे भी पहले उसने विशेषकर ग्रामीण इलाक़ों में लगभग 270 शराब की दुकानों को बंद करने का निर्णय भी ले लिया है. रायपुर के चंदखुरी गाँव में मेरी मुलाक़ात महिलाओं के ऐसे ही एक दस्ते से हुई, जो भजन का सहारा लेकर शराबियों के घर के सामने डेरा डाले हुए थीं.





अभियान में शामिल एक महिला

अब किसी के साथ ज़ोर-ज़बरदस्ती तो नहीं कर सकते. समझा ही सकते हैं और सामजिक दबाव ही बना सकते हैं. यही हम कर रहे हैं बाद में इस समूह की महिलाओं ने बताया कि वे भजन का सहारा लेकर ही अपने अभियान को चला रही हैं. इस दल में से एक महिला नें बीबीसी को बताया, "अब किसी के साथ ज़ोर-ज़बरदस्ती तो नहीं कर सकते. समझा ही सकते हैं और सामजिक दबाव ही बना सकते हैं. यही हम कर रहे हैं."

महिलाओं का कहना है की शराब धीरे-धीरे ग्रामीण इलाक़ों में लोगों को खोखला करती जा रही है. ग्रामीण इलाकों के किसान और मज़दूर अपनी कमाई का ज़्यादातर हिस्सा शराब में ख़र्च कर दे रहे हैं. इस समूह में शामिल महिलाओं का कहना है, "अब दिनभर मज़दूरी कर अगर सौ रूपए कोई कमाता है, तो उसमें से 60 रूपए की शराब पी जाता है. तो घर के लिए क्या बचा." एक दूसरी वृद्ध महिला कहती हैं कि शराब की वजह से गाँव में मज़दूर है, तो वह किसी काम का नहीं. अगर किसान भी है, तो वह भी किसी काम का नहीं क्योंकि शराब की वजह से इनकी ज़्यादातर कमाई मधुशालाओं में चली जाती है.

इस अभियान में औरतों के आने से समाज में एक दबाव ज़रूर बन गया है, ऐसा जानकारों का मानना है. शराब की लत का सबसे बुरा दंश घर की महिलाओं को झेलना पड़ता है, क्योंकि नशे में धुत घर का मुखिया मार-पीट पर आमादा हो जाता है.

अभियान अपनी जगह पर, सरकार की इस पहल से शराबी नाराज़ हैं. वे नाराज़ हैं, तो हुआ करें, इससे सरकार को कोई फर्क नहीं पड़ता. शराबी सरकार को कोस रहे होंगे. कुछ पी कर तो कुछ बिना पीये. मगर एक दिन उनकी समझ में आएगा कि सरकार ने शराब की दुकाने बंद कर अच्छा काम किया है , देवजी भाई पटेल कम से कम छत्तीसगढ़ बेवेरेज कॉरपोरशन के अध्यक्ष देवजी भाई पटेल तो ऐसा ही मानते हैं. वे कहते हैं, "शराबी सरकार को कोस रहे होंगे. कुछ पी कर तो कुछ बिना पीये. मगर एक दिन उनकी समझ में आएगा कि सरकार ने शराब की दुकाने बंद कर अच्छा काम किया है."

देवजी भाई पटेल का कहना है कि शराब के सेवन का सबसे ज्यादा दंश महिलाएं ही झेलती हैं. इसलिए सरकार ने उन्हीं के ज़रिये इस शराब व्यसन अभियान को चलाने का फैसला किया है. शराब व्यसन मुक्ति कार्यक्रम के तहत प्रदेश के सात ज़िलों के 15 विकास खंडों में 75 गाँवों को शामिल किया गया है. भारत माता वाहिनी के प्रत्येक दल में कम से कम 15 और ज़्यादा से ज़्याजा 100 महिलाओं की टोली बनाई गई है. वाहिनी में किसे शामिल किया जाए, इसके लिए गाँव के स्तर पर ही सरपंच, सचिव, स्वास्थ्य कार्यकर्ता और सेवा सहायता समूह के प्रतिनिधियों को रखा गया है तो क्या छत्तीसगढ़ में मधुशालाएँ पूरी तरह बंद हो जाएँगी? मैंने पूछा देवजी भाई पटेल से, जो स्वीकार करते हैं कि मधुशालाएँ बंद नहीं हो सकतीं. अलबत्ता जागरूकता से शराब पीने का चलन कम किया जा सकता है.

From the Blog

‘स्वच्छता सर्वेक्षण 2018’ पर एक दिवसीय कार्यशाला सम्पन्न : शहरों से निकलने वाले कचरों का उचित प्रबंधन जरूरी
19 September 2017
स्वच्छ भारत मिशन (शहरी) के तहत छत्तीसगढ़ के सभी 168 नगरीय निकायों को स्वच्छता की

राज्य के तालाबों के संरक्षण हेतु तकनीकी विशेषज्ञों की रिपोर्ट पर बनेगी कार्ययोजना
31 August 2017
राज्य शासन द्वारा सरोवर धरोहर योजना के अंतर्गत राज्य के तालाबों के संरक्षण एवं सुदृढ़ीकरण के

श्री अमर अग्रवाल ने की विभागीय कार्यों की समीक्षा
19 September 2017
नगरीय प्रशासन मंत्री श्री अमर अग्रवाल ने आज यहां मंत्रालय(महानदी भवन) में विभागीय कामकाज की समीक्षा की। इस दौरान विभाग विशेष सचिव डॉ रोहित यादव